पथरीली डगर मासूम सफर
जिन्दगी के कठिन सफर पर है, ले मेरा सर ये तेरे दर पर है । और उम्मीद अब करुँ किससे , मेरी हसरत तेरी नज़र पर है ।
Shivam Jain