Top
undefined

शिक्षा जगत के 'बाबा' हिस्ट्रीशीटर इमलाख पर कानून का शिकंजा

एसएसपी अभिषेक यादव ने शिक्षा माफिया की 25 करोड़ रुपये की अचल सम्पत्ति को किया जब्त, विरोध करने पर हिस्ट्रीशीटर इमलाख पुलस अफसरों ने हड़काया, हिरासत में लिया, हास्पिटल और मेडिकल काॅलेज की 118 बीघा जमीन व 4 बिल्डििंग को प्रशासन ने कब्जाया

शिक्षा जगत के बाबा  हिस्ट्रीशीटर इमलाख पर कानून का शिकंजा
X

मुजफ्फरनगर। शासन के निर्देश पर मुजफ्फरनगर पुलिस ने एक चर्चित शिक्षा माफिया के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए उसकी करोड़ों रूपये की संपत्ति को जब्त कर लिया। जब्त की गयी संपत्ति की कीमत 25 करोड़ रुपये बतायी गयी है। इसमें हास्पिटल और मेडिकल काॅलेज की बिल्डिंग भी शामिल हैं। पुलिस द्वारा जब्तीकरण की कार्रवाई का विरोध करने और इसमें व्यवधान पैदा करने पर इमलाख को हिरासत में ले लिया गया। इमलाख थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है और उसको शिक्षा माफिया के रूप में चर्चित माना जाता है।


रविवार को एसडीएम सदर दीपक कुमार और सीओ सिटी राजेश कुमार द्विवेदी के नेतृत्व में थाना कोतवाली नगर पुलिस द्वारा हिस्ट्रीशीटर अभियुक्त इमलाख पुत्र इलियास निवासी ग्राम शेरपुर थाना कोतवाली नगर की अचल सम्पत्ति के विरु( धारा 14;1द्ध के अन्तर्गत बड़ी कार्यवाही की गई। आज दोपहर के समय सीओ सिटी राजेश द्विवेदी के साथ एसडीएम सदर दीपक कुमार भारी पुलिस फोर्स लेकर हिस्ट्रीशीटर इमलाख के बरला-बसेडा रोड पर स्थित बाबा इंस्टीट्यूट आॅफ फार्मेसी और बाबा चेरिटेबल हास्पिटल पहुंचे और वहां पर शासन के निर्देशानुसार काॅलेज व हास्पिटल सहित अन्य अचल संपत्ति को जब्त करने की कार्यवाही प्रारम्भ करा दी।


इस दौरान इमलाख भी मौके पर ही मौजूद रहा। इमलाख को एसडीएम सदर और सीओ सिटी ने उसके विरु( बने आरोपों के अन्तर्गत जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. द्वारा दिये गये संपत्ति जब्तीकरण के आदेशों की जानकारी दी। इमलाख से संपत्ति को जब्त करने की कार्यवाही की नोटिस देकर उसके हस्ताक्षर भी अधिकारियों ने मौके पर ही कराये। एसडीएम सदर दीपक कुमार ने बताया कि इमलाख ने संपत्ति को जब्त करने की कार्रवाई को लेकर अपना विरोध भी दर्ज कराया और कार्रवाई में व्यवधान पैदा करने की कोशिश भी की गयी, इसको लेकर पुलिस द्वारा उसको हिरासत में लेकर थाने भिजवा दिया गया था। मौके पर कार्रवाई को लेकर बोर्ड भी लगवा दिया गया है। इसमें बाबा इंस्टीट्यूट आॅफ फार्मेसी, बाबा चेरिटेबल हास्पिटल की बिल्डिंग भी शामिल हैं, जिनको सील करा दिया गया है।

सीओ सिटी राजेश द्विवेदी ने बताया कि इमलाख पुत्र इलियास थाना कोतवाली नगर की हिस्ट्रीशीट संख्या 590ए का अपराधी है। इमलाख ने अवैध रूप से फर्जी मार्कशीट यूपी बोर्ड एवं विभिन्न शिक्षा बोर्ड के माध्यम से बनाकर छात्रों एवं उनके अभिभावकों से धन अर्जित करते हुए यह अवैध संपत्ति अर्जित की थी। आज जिलाधिकारी द्वारा मुकदमा अपराध संख्या 346/2018 धारा 2/3 गिरोहबन्द एवं समाज विरोधी क्रियाकलाप ;निवारणद्ध अधिनियम की धारा 14;1द्ध के अन्तर्गत दिए गये आदेशों पर यह कार्रवाई की गयी। उन्होंने बताया कि इमलाख के खिलाफ ग्राम भमावडी स्थित खसरा नम्बर 531 के रकबा 1.4660 हैक्टेयर पर स्थित बाबा इंस्टीट्यूट आॅफ एजूकेशन एण्ड टैक्नालोजी की बहूमंजिला इमारत को शासन के पक्ष में कुर्क किया गया।


पुलिस सूत्रों के अनुसार इमलाख पर हुई इस कार्रवाई में करीब 25 करोड़ रुपये कीमत की अचल संपत्ति को जब्त किया गया है। इसमें 118 बीघा जमीन व 4 बनी एवं अधबनी बिल्डिंग बनी अधबनी को जब्त करने की कार्यवाही की गयी। कार्यवाही में इमलाख के तीन स्कूल व कालेज के नाम पर बनी बिल्डिंग पर पुलिस प्रशासन द्वारा सीलिंग की गयी कार्यवाही की है। इस दौरान एसडीएम सदर दीपक कुमार, सीओ सिटी राजेश द्विवेदी, एसीपी विवेक यादव, शहर कोतवाली इंचार्ज इंस्पेक्टर अनिल कपरवान, शेरपुर रुड़की चुंगी चैकी इंचार्ज उप निरीक्षक राघवेंद्र चैहान सहित भारी पुलिस फोर्स मौजूद रहा।

सीओ सिटी राजेश द्विवेदी ने बताया कि इमलाख को विरोध करने पर हिरासत में ले लिया गया था, लेकिन बाद में खेद जताने पर पुलिस हिरासत से उसको रिहा कर दिया गया है। अब उसकी सील की गयी संपत्ति पुलिस की निगरानी में रहेगी। बता दें कि योगी आदित्यनाथ सरकार में माफिया और बदमाशों के खिलाफ अवैध स्तर पर और अपराध के रास्ते से बनाई गई संपत्ति के जब्तीकरण की कार्यवाही बड़े पैमाने पर की जा रही है। बाबा कोचिंग सेंटर के मालिक हिस्ट्रीशीटर इमलाख की करोड़ों रूपये की कृषि भूमि व घर को भी पुलिस प्रशासन ने जब्त कर लिया था।

हमेशा चर्चाओं में रहा इमलाख, कोचिंग सेंटर से बनाया फार्मेसी काॅलेज


शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव शेरपुर निवासी इमलाख खान की अवैध धंधों से अर्जित की गई करीब 25 करोड़ की संपत्ति पुलिस-प्रशासन द्वारा कुर्क की गई। इमलाख खान रुड़की रोड स्थित चर्चित बाबा कोचिंग सेंटर के जरिये चर्चा में आया था, जहां उस पर फर्जी शैक्षणिक डिग्रियां बांटने के आरोप लगे थे। इसके बाद उस पर धोखाधड़ी व ठगी के मुकदमे दर्ज होते गए, उसको इसमें कई बार जेल भी जाना पड़ा। रुड़की रोड पर छोटे से कोचिंग सेंटर से इमलाख आज फार्मेसी काॅलेज और बेशकीमती संपत्ति का मालिक बन बैठा। दो जून 2017 को गांव शेरपुर में पुलिस टीम पर हुए हमले में इमलाख खान का नाम आने के बाद शहर कोतवाली पुलिस ने उसकी हिस्ट्रीशीट खोल दी थी। एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि आपराधिक छवि वाले परिवार व उसके सदस्यों की क्रिमिनल हिस्ट्री खंगाली जा रही है। जल्द ही सभी आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

मेडिकल कोर्स में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं में हलचल


आज बरला-बसेडा रोड पर गांव भमावडी में हिस्ट्रीशीटर इमलाख की बाबा इंस्टीट्यूट की संपत्ति कुर्क की कार्यवाही के बाद इमलाख के स्कूल काॅलेज में अध्ययनरत छात्र छात्राओं में भी अपने भविष्य को लेकर हलचल मची रही। जिस समय एसडीएम सदर और सीओ सिटी राजेश द्विवेदी भारी पुलिस फोर्स के साथ बाबा इंस्टीट्यूट फार्मेसी पर गये तो वहां पर मेडिकल कोर्स करने के लिए काॅलेज में अध्ययनरत काफी संख्या में छात्र छात्राएं मौजूद थे। इनको वहां से चले जाने के लिए कहा गया। इन छात्रों को बताया गया कि पुलिस प्रशासन के अफसर कुछ पूछताछ के लिए यहां आये हैं, लेकिन अब जबकि उक्त काॅलेज और अन्य संपत्ति शासन के पक्ष में जब्त कर ली गयी हैं तो इसकी सूचना मिलने पर इन छात्र-छात्राओं में अपने भविष्य को लेकर चिंता बनी हुई है। इनमें बी. फार्मा और डी फार्मा में अध्ययनरत छात्र छात्राएं शामिल हैं।

Next Story