Top
undefined

राष्ट्रीय शिक्षा नीति से होने वाले बदलाव पर वेबीनार में चर्चा

एसडी काॅलेज ऑफ काॅमर्स, मुजफ्फरनगर के द्वारा आन्तरिक गुणवत्ता एवं सुनश्चयन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया जिसका विषय शिक्षा नीति-2020 रहा।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति  से  होने वाले बदलाव पर वेबीनार में चर्चा
X

मुजफ्फरनगर। एसडी काॅलेज आॅफ काॅमर्स, मुजफ्फरनगर के द्वारा आन्तरिक गुणवत्ता एवं सुनश्चयन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में एक राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया जिसका विषय शिक्षा नीति-2020 रहा। जिसमें भारत के प्रख्यात शिक्षाविदों एवं पेशेवर व्यक्तियों ने भाग लिया। इस वेबीनार के मुख्य अतिथि विद्या सागर पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ कुलपति पुरस्कार, शिक्षा रत्न पुरस्कार तथा अन्य सम्मानित पुरस्कारों से अलंकृत प्रो0 जी0 विश्वनाथन, पूर्वकुलपति तमिलनाडु शिक्षक शिक्षा विश्वविद्यालय रहे। उन्होनें राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का उच्च शिक्षा पर होने वाले प्रभाव को संक्षिप्त एवं प्रभावशाली रूप से बताया वेबीनार के मुख्य वक्ता जेम आॅफ इण्डिया पुरस्कार, ग्लोरी आॅफ इण्डिया पुरस्कार, विद्या रत्न पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ भारतीय नागरिक पुरस्कार, विशिष्ठ व्यक्ति पुरस्कार, डा. सर्वपल्ली राधाकृकृष्णन पुरस्कार तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के कई अन्य पुरस्कार विजेता प्रो. वी. बालामोहनदास पूर्व कुलपति आचार्य नागार्जुना विश्वविद्यालय रहे। उन्होने शिक्षा के क्षेत्र में कस्तुरीरंगन कमेटी की रिपोर्ट के बारे में बताया तथा यह भी कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में वास्तव में परिवर्तन की आवश्यकता थी जिसको वर्तमान सरकार ने 34 वर्ष के लम्बे अंतराल के पश्चात लागू किया, इससे निश्चय ही भारत को शिक्षा के क्षेत्र में आशातीत सफलता प्राप्त होगी।

वेबीनार के अध्यक्ष डाॅ सचिन गोयल प्राचार्य एसडी काॅलेज आॅफ काॅमर्स, मुजफ्फरनगर ने भी राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 से वर्तमान शिक्षा में होने वाले बदलाव के बारे में विस्तार से बताया उन्होने यह भी बताया की नई शिक्षा नीति 2020 में महाविद्यालय शिक्षक एवं छात्रों के स्तर पर कई महत्वपूर्ण परिवर्तन किये गये जिससे निश्चित रूप से शिक्षा की गुणवत्ता को बढाने में सहायता मिलेगी। प्राचार्य ने भविष्य में भी ऐसे उपयोगी वेबीनार आयोजित कराने का संकल्प किया। वेबीनार का संचालन डा0 दीपक मलिक, विभागाध्यक्ष वाणिज्य संकाय के द्वारा किया गया। वेबीनार को सम्पन्न कराने में डा. नावेद अख्तर, डा. रवि अग्रवाल, डा. मानसी अरोरा, संकेत जैन, अंकित धामा, नुपुर, कुशलवीर सिंह आदि ने सहयोग किया।


Next Story