Top
undefined

पूर्व प्रधान अम्मार हत्याकांड-केस की सुनवाई शुरू, वीसी से हुई मुख्य आरोपी की पेशी

पूर्व प्रधान अम्मार हत्याकांड-केस की सुनवाई शुरू, वीसी से हुई मुख्य आरोपी की पेशी
X

मुजफ्फरनगर। तीन साल पूर्व दिनदहाड़े गोलियों से भूनकर मौत के घाट उतारे गये पूर्व प्रधान अम्मार के मामले में अदालत में ट्रायल शुरू हो गया है। अदालत में चश्मदीद गवाह के बयान दर्ज हुए तो वहीं इस सनसनीखेज हत्याकांड के मुख्य आरोपी की पेशी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई।

पुलिस सूत्रो के अनुसार गत 22 अगस्त 2017 को शहर कोतवाली के मौहल्ला आर्यपुरी में ग्राम सीकरी के पूर्व प्रधान अम्मार की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस चर्चित मामले में शुक्रवार को एडीजे-प्रथम कि कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई। अम्मार हत्याकांड के चश्मदीद गवाह कलीम को पेश किया गया और कोर्ट में उसके बयान दर्ज हुए। कोर्ट ने बहस को जारी रखते हुए सुनवाई 26 अगस्त तक स्थगित कर दी है। मुजफ्फरनगर के इस चर्चित हत्याकांड मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश प्रतिदिन की जा रही है। अभी कोर्ट में कोरोना संकट के कारण लाॅक डाउन की बंदिशों के चलते इस केस की नियमित सुनवाई नहीं हो पा रही है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले मे जल्दी सुनवाई करने के आदेश दे रखे हैं। इसी के तहत मिर्जापुर जेल में बंद अम्मार हत्याकांड के मुख्य आरोपी आजीवन कारावास की सजा पा चुके जमशेद की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की हुई। बता दें कि कोरोना महामारी के चलते जेल में बंद आरोपियों की पेशी कोर्ट में स्थगित है, इस वजह से आरोपी जमशेद सहित दूसरे आरोपी कोर्ट में पेश नही किए जा रहे हैं। आज सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष की मांग थी कि आरोपी जमशेद को सुनवाई के दौरान जेल से कोर्ट में तलब किया जाये, लेकिन महामारी के चलते प्रदेश भर में जेल से कोर्ट में पेशी पर लगी रोक की वजह से न्यायाधीश ने बचाव पक्ष की यह मांग अस्वीकार कर दी। अभियोजन पक्ष की ओर से एडीजीसी आशीष त्यागी ने गवाह के बयान दर्ज कराए। इसके बाद बचाव पक्ष के वकील जुलकरण ने बहस शुरू की। सीकरी के पूर्व ग्राम प्रधान अम्मार जब अपने स्कूटर पर जा रहे थे, तो उनकी गोली मारकर सरेआम हत्या कर दी गयी थी। इसमें मुख्य आरोपी सीकरी के ही पूर्व प्रधान जमशेद के साथ उसके भाई गुल सनव्वर, नौशाद और दिलशाद सहित 8 आरोपी शामिल हैं। जमशेद और गुल सनव्वर को सीकरी में हुई एक व्यक्ति की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है, जिसके तहत ही वह जेल में बंद चल रहे हैं। पीड़ित पक्ष को रंजिश होने के कारण सुरक्षा प्रदान की गयी है। इस मामले की सुनवाई को लेकर कोर्ट परिसर में आज कड़ी सुरक्षा बंदोबस्त किये गये थे। कोर्ट में आने वाले लोगों पर पुलिस की सख्त निगाह लगी रही। इस केस में गवाही को अहम माना जा रहा था और गवाह की सुरक्षा के लिए अतिरिक्त पुलिस भी लगायी गयी।

Next Story