Top
undefined

मुजफ्फरनगर में सभासद पत्नी की मौत पर बैठी जांच, सीएमओ का हुआ घेराव

मुजफ्फरनगर में सभासद पत्नी की मौत पर बैठी जांच, सीएमओ का हुआ घेराव
X

मुजफ्फरनगर। सभासद की पत्नी की कोरोना संक्रमण से हुई मौत को लेकर आज सभासदों ने सीएमओ का उनके कार्यालय में घेराव करते हुए रोष जताया और इसमें स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्यवाही की मांग की। सभासदों के घेराव प्रदर्शन का यह असर रहा कि सीएमओ ने तत्काल ही सभासद पत्नी की मौत प्रकरण पर विभागीय जांच बैठा दी। उन्होंने तीन सदस्यीय जांच समिति गठित करते हुए पांच दिन में इस संबंध में रिपोर्ट तलब की है। इसके साथ ही फिलहाल यह प्रकरण ठण्डा पड़ गया है। सभासदों ने पांच दिन के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं होने पर कानूनी कार्यवाही कराने की चेतावनी दी है।

बता दें कि नगरपालिका परिषद् के वार्ड 12 के भाजपा सभासद नरेश चंद मित्तल 31 जुलाई को कोरोना संक्रमित पाये गये थे। इसके बाद उनकी पत्नी भी कोरोना संक्रमित मिली। आरोप है कि सभासद की पत्नी और अन्य परिजनों की जांच कराने में स्वास्थ्य विभाग ने घोर लापरवाही बरती। सभासद की पत्नी की हालत खराब होने पर उनको उपचार के लिए दिल्ली मैक्स हाॅस्पिटल में भर्ती कराया गया था, वहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। इसको लेकर सभासदों ने सीएमओ डा. प्रवीण चोपडा पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शुक्रवार को सभासद राजीव शर्मा के नेतृत्व में पालिका के डेढ़ दर्जन से अधिक सभासदों ने सीएमओ डा. प्रवीण चोपडा का उनके कार्यालय पहुंचकर घेराव किया और सभासद की पत्नी की मौत को लेकर स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराते हुए रोष प्रकट किया। सभासद राजीव शर्मा ने कहा कि सभासद के पाॅजिटिव पाये जाने के बाद सीएमओ की ओर से उनकी पत्नी और परिजनों का कोविड टेस्ट कराने में लापरवाही बरती गई, इसी बीच सभासद की पत्नी की आॅक्सीजन कम होती गयी और उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई। जबकि कोरोना पाॅजिटिव मिलने के बाद उनके पति को सही समय से उपचा मिला तो वह स्वस्थ हो गये।



सभासदों के घेराव प्रदर्शन के उपरांत सीएमओ ने तत्काल ही सभासद पत्नी की मौत प्रकरण में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को लेकर विभागीय जांच बैठाने दी। सीएमओ ने बताया कि इस मामले में तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि जांच समिति से इस मामले में जांच कर पांच दिन में रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि सभासद या उनके परिवार की जांच एवं उपचार को लेकर उनकी ओर से कोई भी लापरवाही नहीं बरती गई। शासनादेश की व्यवस्था के अनुसार ही सभासद के परिजनों के टेस्ट कराये गये और उपचार कराया गया है। जांच रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में अगली कार्यवाही की जायेगी। वहीं सभासदों का कहना है कि पांच दिन बाद यदि इस मामले में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही पर कोई कार्यवाही नहीं होती है तो वह सीएमओ के खिलाफ आंदोलन करते हुए कानूनी कार्यवाही भी करेंगे।

सीएमओ का घेराव करने वाले सभासदों में मुख्य रूप से भाजपा नेता बिजेन्द्र पाल, राजीव शर्मा, मनोज वर्मा, हनी पाल, प्रवीण कुमार पीटर, अरविन्द धनगर, सचिन कुमार, अमित बाॅबी, सभासद पति नौशाद कुरैशी, अन्नू कुरैशी, मनीष कुमार, राजकुमार पाल और नरेश खटीक आदि शामिल रहे।

सीएमओ से मिलकर सभासद मुस्कुराये, बातें की और केले खाये

मुजफ्फरनगर। सभासद की पत्नी के कोरोना संक्रमण से निधन हो जाने के बाद नगरपालिका परिषद् का पूरा बोर्ड ही जिस प्रकार सीएमओ और स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ आंदोलन के लिए एकजुट नजर आ रहा था, आज सीएमओ के घेराव में सभासदों का यह संख्याबल कम नजर आया। वहीं गुस्से ओर रोष में दिखने वाले सभासद यहां पर एंजाॅय करते हुए भी नजर आये। सीएमओ डा. प्रवीण चोपडा ने उनके खिलाफ आंदोलन को तैयार सभासदों का पूरा आदर सत्कार किया। उनके लिए नाश्ता मंगाया गया और पूरा भरोसा दिया कि जांच कमेटी गठित की गई है, इसमें कार्यवाही की जायेगी। सीएमओ के साथ उनके कार्यालय में घेराव करने आये सभासदों ने जमकर बातें की, मुस्कुराये और उनके द्वारा मंगाये गये केले भी कुछ सभासदों ने जमकर खाये। इसके लिए कुछ तस्वीरें भी वायरल हुई।

Next Story