Top
undefined

प्रदूषण विभाग में जबरन कब्जा व मारपीट पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

विभागीय अफसरों और कर्मचारियों के साथ मारपीट कर गुण्डागर्दी करने पर पुलिस ने की कार्यवाही प्रशासन पर अनैतिक दबाव बनाने के प्रयास में ग्रामीणों को भ्रमित कर लाया विशाल गिरफ्तार पुलिस ने गंभीर धाराओं में 5 नामजद व अज्ञात लोगों पर किया मुकदमा दर्ज, कई को जेल भेजा

मुजफ्फरनगर। प्रदूषण विभाग कार्यालय पर जबरन कब्जा करने के साथ ही वहां पर अधिकारी और कर्मचारियों के साथ मारपीट करने के मामले में पुलिस ने चर्चित विशाल बोपाडा और उसके साथियों के खिलाफ गंभीर कार्यवाही की है। पुलिस ने प्रदूषण कार्यालय में घुसकर सरकारी कार्य में बाधा डालने के साथ ही मारपीट और जानलेवा हमला करने और सरकारी दस्तावेज छिन्न भिन्न करने के साथ ही गंभीर धाराओं में विशाल बोपडा सहित उसके पांच साथी हमलावरों सहित करीब डेढ दर्जन अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। विशाल बोपाडा और उसके सार्थियों को मौके से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।


बता दें कि ग्रामीणों की समस्या को संज्ञान लेकर पानी सम्बंधी परेशानी का निराकरण कराने के लिए विगत दिनों प्रदूषण विभाग के अवर अभियंता विपुल कुमार गांव बोपाडा में पहुंचे थे। इसी बीच यहां पर विशाल भी अपने कुछ साथी युवकों के साथ पहुंचा और उसने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय में तैनात अवर अभियंता विपुल कुमार के साथ जबरदस्ती करते हुए अभद्रता शुरू कर दी। गाली गलौच के साथ धक्का मुक्की गयी और जेई विपुल को बंधक बना लिया गया। गुण्डागर्दी की हद तो तब हो गयी, जबकि यहां पर विशाल ने अपने साथियों के साथ मिलकर ग्रामीणों के मना करने के बावजूद भी जेई विपुल कुमार को गन्दा पानी जबरन पिलाया और उनको धमकी भी दी। एक अधिकारी के साथ इस स्तर पर अभद्रता और उसके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ का मामला सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। शासन तक भी इस मामले में शिकायत पहुंची। इस मामले में प्रदूषण विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में भी रोष बना हुआ था। इस कृत्य के बाद भी विशाल पर कोई बड़ी कार्यवाही नहीं होने से विभाग में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारी भी अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित नजर आ रहे थे। चर्चित विशाल ने मन्सूरपुर डिस्टलरी पर इस प्रदूषित पानी के लिए आरोप लगाये और कार्यवाही की मांग की। जबकि मौके पर पहुंचे जेई विपुल कुमार ने उनको जांच करने के बाद समस्या का समाधान कराने का आश्वासन भी दिया था।

जेई के साथ अभद्रता करने के बाद विशाल के हौसले और बुलन्द हुए और आज गुरूवार को वह अपने साथियों के साथ प्रशासन पर अनैतिक दबाव के उद्देश्य से एक साजिश के तहत नई मण्डी स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के कार्यालय पर पहुंचा था। यहां पर पहले तो विशाल ने कार्यालय के बाहर धरना देने का स्वांग रचा और फिर अपने साथियों के पहुंचने पर उसने लाठी डंडे लेकर प्रदूषण विभाग में ही हमला बोल दिया। प्रत्यक्षदर्शियो के अनुसार वहां पर कार्य कर रहे कर्मचारियों और अधिकारियों को डराया धमकाया गया। उनको बाहर निकाला गया। मेज पर रखे दस्तावेजों को भी फाडकर फेंक दिया गया। विशाल के साथ कई युवक कर्मचारियों से हाथापाई भी करते नजर आये। इसके बाद इन लोगों ने कार्यालय के मुख्य द्वार पर तालाबंदी कर कब्जा कर लिया। अधिकारियों और कर्मचारियों की शिकायत के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कम्प मच गया। नई मण्डी कोतवाली प्रभारी अनिल कपरवान भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने विशाल बोपाडा और उनके साथ आये लोगों को वहां से हटाने के लिए काफी समझाया, लेकिन वह नहीं माने। प्रदूषण कार्यालय पर हमला करने के बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए यहां से भीड़ को तितर बितर किया और विशाल बोपाडा के साथ ही उनके कई साथियों को हिरासत में ले लिया।

एसएचओ अनिल कपरवान ने बताया कि विशाल नामक युवक अपने साथियों के साथ प्रदूषण विभाग के कार्यालय में घुसा और तोड़फोड़ व मारपीट करते हुए अनैतिक दबाव बनाने के साथ ही कार्यालय पर कब्जा कर लिया। इस मामले में विशाल बोपाडा के अलावा उसके साथियों सार्थक बुढीना, हिमांशु बोपाडा, विकास शर्मा मन्सूरपुर और काजी फैज निवासी जसोई तितावी सहित 17-18 अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि इन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 323, 353, 507, 452, 188, 342, 259, 270, 3 महामारी अधिनियमित तथा 51 आपदा प्रबंधन अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया गया है। इन सभी को जेल भेज दिया गया है।

Next Story