Top
undefined

वैक्सीनेशन पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने दी ये सलाह

वैक्सीनेशन पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने दी ये  सलाह
X

नयी दिल्ली। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने देश में हो रहे वैक्सीनेशन अभियान पर सलाह देते हुए कहा कि वैक्सीनेशन में उम्र दराज व गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

उनका कहना है कि वैक्सीन ही कोरोना के खिलाफ एकमात्र हथियार है. हमें इसका इस्तेमाल सोच समझकर एक रणनीति के तहत करना होगा, जिससे बेहतर परिणाम हासिल कर सकें. उन्होंने कहा कि देश में भले ही कोरोना के मामले कम हो रहे हैं लेकिन अभी तीसरी लहर आना बाकी है. ऐसे समय में अगर नादानी भरे कदम उठाए गए तो वायरस और ज्यादा खतरनाक भी हो सकता है. इसके साथ ही एक्सपर्ट्स ने चेतावनी देते हुए कहा है कि इसे इस तरह से लागू करना चाहिए जिससे सीमित खर्चे में ज्यादा से ज्यादा कारगर परिणाम हासिल हो सकें.

एक्सपर्ट्स ने कहा कि हमें मास लेवल पर लोगों को वैक्सीनेट करने की जरूरत नहीं है. जो लोग अभी अभी कोरोना से रिकवर हुए हैं, या जिनका वैक्सीनेशन अधूरा है वो भी किसी म्यूटेंट को ट्रिगर कर सकता है. इसलिए हमें एक बेहतर रणनिति के तरह चलने की जरूरत है. देश में फैली माहामारी के दौरान अप्रैल 2020 में इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन (IPHA) और इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन (IAPSM) द्वारा भारत के प्रख्यात पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट की एक संयुक्त टास्क फोर्स का गठन किया गया था. इस ग्रुप का काम भारत सरकार को कोविड-19 की रोकथाम के लिए सलाह देना है.

अपनी रिपोर्ट में, IPHA और IAPSM ने कहा कि हमें सबसे पहले ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य संस्थानों को टीके की आपूर्ति को प्राथमिकता दी जानी चाहिए और साथ ही सभी को टीका लगाने से बेहतर है कि हम फिलहाल तीसरे स्टेज के लिए उन लोगों को टीका लगाने में प्राथमिकता दें जो उम्रदराज है या फिर गंभीर रोगों से ग्रसित हैं. उन्होंने कहा कि वायरस सबसे पहले बीमार लोगों को ही निशाना बना रहा है. युवाओं को टीका लगाने से खर्च ज्यादा होगा.

उन्होंने कहा कि देश में महामारी की वर्तमान स्थिति की मांग है कि हमें इस स्तर पर सभी उम्र के लोगों को टीका लगाने के बजाय उन लोगों को वैक्सीनेट करें जिन्हें टीके की ज्यादा जरूरत है. इसमें किसी भी उम्र के लोग शामिल हो सकते हैं. लेकिन उन्हें दिखाना होगा कि वो पहले से किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं. विशेषज्ञों के समूह ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि अगर हम बिना किसी रणनीति के वैक्सीनेसन करते हैं जल्द ही हमारी वैक्सीन खत्म हो जाएगी.

Next Story