Top
undefined

कानपुर मंडल की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने कसे अधिकारियों के पेच, मुलायम के गढ़ सैफई को दी योजनाओं की सौगात

कानपुर मंडल की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने कसे अधिकारियों के पेच, मुलायम के गढ़ सैफई को दी योजनाओं की सौगात
X

गोमती रिवर फ्रंट अब बीते दिनों की बात हो जाएगी। लखनऊ के गोमती रिवर फ्रंट को टक्कर देने के लिए कानपुर में गंगा तट पर खूबसूरत रिवर फ्रंट का निर्माण होने जा रहा है। कानपुर मंडल की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस बात के निर्देश दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कानपुर दौरे का जिक्र करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा की गंगा में नौका विहार के दौरान पीएम ने कानपुर में गंगा की स्वच्छता की प्रशंसा की थी। प्रधानमंत्री की भावनाओं की कद्र करते हुए हम गंगा तट पर खूबसूरत रिवर फ्रंट को तैयार करेंगे।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इस संबंध में कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। कानपुर मंडल (जनपद कानपुर नगर, कानपुर देहात, फर्रूखाबाद, कन्नौज, इटावा, औरैया) के विकास कार्यों की समीक्षा कर रहे मुख्यमंत्री ने ये आदेश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा अविरल और निर्मल गंगा के लिए कानपुर एक महत्वपूर्ण पड़ाव है, कानपुर मंडल के बड़े भूभाग से होकर गंगा गुजरती हैं। उन्होंने नमामि गंगे अभियान की प्रशंसा करते हुए कहा कि कानपुर सहित पूरे मंडल में इस अभियान के तहत अच्छा कार्य हुआ है। उन्होंने भविष्य की रूपरेखा खींचते हुए कहा कि गंगा नदी के किनारे रिवर फ्रंट विकसित करने से पर्यटन को बढ़ावा मिलने के साथ ही कानपुर की खूबसूरती में भी इजाफा होगा।

मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में उपस्थित अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि सभी अधिकारी, जनप्रतिनिधियों के लगातार संपर्क में रहें। उन्होंने कहा, अधिकारियों द्वारा सांसदों, विधायक गणों के फोन कॉल की उपेक्षा कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। किसी अधिकारी के खिलाफ ऐसी शिकायत आने पर दोषी अधिकारी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई जरूर होगी। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि सांसदों, विधायकों की उपेक्षा जनता की उपेक्षा है, इसे किसी दशा में स्वीकार्य नहीं किया जाएगा। सरकारी भूमि पर कब्ज़ा करने वालों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा कि किसी ने अवैध कब्जा किया है, तो उससे सख्ती से निपटा जाए और जब से अवैध कब्जा हुआ है तबसे किराया भी वसूला जाए।

वहीं कानपुर में प्रस्तावित मेट्रो रेल के कार्य की समीक्षा के दौरान कहा यह सेवा शहर की सार्वजनिक परिवहन सुविधा के लिहाज से अत्यंत महत्वपूर्ण है, लिहाज़ा इसे प्राथमिकता से किया जाना चाहिए। समीक्षा बैठक में मंडलायुक्त राजशेखर ने मुख्यमंत्री को जानकारी देते हुए बताया कि मेट्रो डिपो के लिए कानपुर में कृषि विश्वविद्यालय की 14 हेक्टेयर भूमि लिया जाना था इसके लिए विश्वविद्यालय की अनुमति मिल गई है। योगी ने कहा कि पहली अक्टूबर से धान क्रय केंद्र खुल रहे हैं, कोविड के दृष्टिगत आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाए। मुख्यमंत्री ने चेतावनी भरे लहजे में कहा किसी भी कीमत पर न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर खरीद न हो। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं से सभी को लाभांवित किया जाए। लाभार्थियों के राशन कार्ड बनाएं, प्रधानमंत्री आवास योजना तथा मुख्यमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाएं। कहा, आवास योजनाओं के निर्माण कार्यों को गुणवत्ता के साथ पूरा किए जाने के साथ-साथ स्वच्छ भारत मिशन के तहत निर्मित शौचालयों की शत-प्रतिशत जियो टैगिंग की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा, जिस कार्य के लिए धन अवमुक्त हो, वही कार्य कराए जाएं। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि ग्राम सचिवालय तथा सामुदायिक शौचालय के लिए भूमि का चिन्हांकन जनप्रतिनिधियों के साथ संवाद करके शीघ्र पूरा किया जाए।

कन्नौज में ग्रामीण इंजीनियरिंग विभाग में इंजीनियरों के पद रिक्त होने की जानकारी पर वहां तत्काल तैनाती करने के भी निर्देश दिए। केंद्र सरकार की मदद से चलने वाली स्मार्ट सिटी, अटल भूजल योजना और अमृत योजना के अन्तर्गत हुए कार्यों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हर घर शुद्ध पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य हासिल करने के लिए पेयजल से जुड़ी सभी योजनाओं का क्रियान्वयन प्राथमिकता के साथ किया जाए, ध्यान रहे कोई घर छूटने ना पाए। महत्वाकांक्षी परियोजना कानपुर स्मार्ट सिटी को सभी संबंधित विभाग मिलकर सफल बनायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि रेन वॉटर हार्वेस्टिंग के अन्तर्गत अधिक से अधिक तालाब खुदवाए जाएं लोगों में जल संचय की कार्यवाही को प्रोत्साहित किया जाए। जनप्रतिनिधियों द्वारा शिकायत किए जाने पर सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विकास कार्यों के लोकार्पण व शिलान्यास जनप्रतिनिधियों से ही कराया जाए। समीक्षा बैठक के दौरान उपस्थित अधिकांश जनप्रतिनिधियों ने अपने क्षेत्रों में सड़क पुनर्निर्माण, सेतु निर्माण, नई नगर पंचायत बनाये जाने की मांग मुख्यमंत्री के सामने रखी। वही कुछ विधायकों द्वारा नए शिक्षण संस्थान की आवश्यकता बताए जाने पर मुख्यमंत्री ने उन्हें भूमि की उपलब्धता के साथ प्रस्ताव भेजने को कहा। समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने सभी जनप्रतिनिधियों की मांगों को गौर से सुना और उन्हें भरोसा दिलाया कि वह स्थानीय प्रशासन के जरिए अपने प्रस्ताव बनवाकर शासन के संबंधित विभाग को भिजवाने के साथ ही उसकी एक प्रति मुख्यमंत्री कार्यालय को भी भेजें, सभी प्रस्ताव पर समय से काम होगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने निम्नलिखित बिंदुओं पर भी आवश्यक निर्देश दिए।

अधिकारियों को बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे विकास में औरैया में भूमि संबंधी समस्या का हल संवाद से निकालने के निर्देश दिए। ईडब्ल्यूएस और एलआइजी आवासों को रजिस्ट्री कराने में कानपुर में सर्किल रेट अधिक होने के कारण आ रही दिक्कतों के समाधान के लिए कमिश्नर को निर्देश दिए। राजस्व संग्रह के लिए नियोजित प्रयास करने की जरूरत पर ध्यान देने और समीक्षा करने के निर्देश दिए। सुगम परिवहन के लिए सड़कों के सुदृढ़ीकरण की कार्रवाई तेज करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने आवास विकास विभाग को प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री आवास योजनाओं से लाभान्वित लोगों के गृह प्रवेश का कार्यक्रम तैयार करने का आदेश दिया। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कानपुर देहात में उमराहट पम्पनहर परियोजना के लिए आवश्यक धनराशि जारी की जाए। उन्होंने कानपुर देहात मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य शीघ्रता से प्रारंभ करने के निर्देश दिए।

कहा, कन्नौज में राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज, इटावा के सैफई ब्लॉक में 300 बेड के नर्सेज एंड गायनी ब्लॉक के निर्माण कार्य को समय से पूरा किया जाए। सैफई में हो रहे अर्बन डेवलपमेंट मास्टर प्लान के कार्य को पूरा करने के लिए आवश्यक धनराशि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। कोविड-19 के दृष्टिगत फर्रुखाबाद में डेथ रेट ज्यादा होने की मुख्य वजह वहां अब तक लेवल टू का हॉस्पिटल ना होना बताया। मुख्यमंत्री ने कहा फर्रुखाबाद में level-2 का हॉस्पिटल तैयार कर हर बेड पर ऑक्सीजन की आपूर्ति होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के सख्त निर्देश दिए।

Next Story