Top
undefined

नवनिर्मित सूचना भवन के लोकार्पण मौके पर मुख्यमंत्री की पत्रकारों के लिए घोषणा, 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा, कोरोना से मृत्यु पर 10 लाख की आर्थिक सहायता

नवनिर्मित सूचना भवन के लोकार्पण मौके पर मुख्यमंत्री की पत्रकारों के लिए घोषणा, 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा, कोरोना से मृत्यु पर 10 लाख की आर्थिक सहायता
X

सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय के नये दफ़्तर के उद्घाटन के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों के लिये दो महत्वपूर्ण घोषणाएं की। ये घोषणा करते हुऐ मुख्यमंत्री ने पत्रकार साथियों का 5 लाख रूपये का बीमा एवं कोरोना से मृत्यु पश्चात 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की बात कही। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा पत्रकार साथियों को पाँच लाख रुपये की धनराशि का बीमा व आकस्मिक निधन पर उनके परिजनों को दस लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि व कोरोना से मृत्यु होने पर दस लाख रुपए दिए जाने की घोषणा करने विभिन्न पत्रकार संगठनों ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित किया।

उल्लेखनीय है विगत काफी समय से पत्रकार संगठन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर पत्रकार हित की तमाम मांगें उठा रहे थे। मुख्यमंत्री ने इन मुद्दों को लेकर संगठनों से विस्तार से बातचीत भी की थी। पत्रकारों ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित किया। उल्लेखनीय है देश के कई राज्यों की सरकारों ने बीमा व पत्रकारों के अकस्मात निधन पर उनके परिजनों को आर्थिक सहायता दे रखी है। अन्य लंबित मांगें जैसे पत्रकार सुरक्षा कानून, वरिष्ठ पत्रकार साथियों को पेंशन व् पत्रकारों के परिजनों को चिकित्सीय सुविधा भी शीघ्र पूरा किये जाने की मांग मुख्यमंत्री से की गई। वहीं पत्रकारों का कहना है कि सरकार का दायित्व है कि लोकतंत्र के सजग प्रहरी के रूप में कार्य कर रहे चौथे स्तंभ की मूलभूत सुविधाओं के साथ उनके आत्मबल को सरकार मज़बूती प्रदान करें । देश का सबसे बड़ा सूबा होने के नाते यहाँ के पत्रकार साथी लंबे समय से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के ऐलान का इन्तिज़ार कर रहे थे। पत्रकारों के लिए यह बेहद ही गौरवान्वित करने वाले क्षणों में से एक है। पत्रकारों ने इसके साथ ही उम्मीद जताई कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार आगे भी पत्रकार हितों का पूर्ण ख्याल रखेगी।

पत्रकार संगठनो ने पत्रकार हित में फैसले का ऐलान करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभार जताया। कहा कि राज्य सरकार का फैसला पत्रकार साथियों के मनोबल को और ऊंचा करने का काम करेगा। वहीं पत्रकार संगठन का कहना था कि यूनियन ने कई बार मांग की है कि किसी भी पत्रकार साथी के निधन पर राज्य सरकार नीति बनाकर एक निश्चित धनराशि पत्रकारों के परिजन को उपलब्ध कराए। साथ ही पत्रकारों को "कोरोना योद्धा" घोषित करने व् निजी आवास जैसी महत्वपूर्ण बिंदुओं को लेकर भी उम्मीद जताई कि मुख्यमंत्री जल्द इन मुद्दों की भी घोषणा कर हमारे पत्रकारों को उत्साहित करने का काम करेंगे। आपको बता दें सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय का 1959 में निर्मित भवन काफी जर्जर हो गया था। नवनिर्मित भवन की आधारशिला तत्कालीन अखिलेश यादव की समाजवादी सरकार के कार्यकाल में रखी गयी थी। इस भवन का नामांकरण पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर हुआ है। ये भवन पंडित दीनदयाल उपाध्याय सूचना परिसर के नाम से जाना जाएगा। आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 104वीं जयंती के मौके पर सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय में नवनिर्मित भवन का लोकार्पण हुआ।

Next Story