Top
undefined

कोरोना वैक्सीनेशन की सूची में मृतकों के नाम मिलने से खलबली

स्वास्थ्य यंत्रालय द्वारा तैयार की गई लाभार्थियों की इस सूची में मृतक नर्स, रिटायर्ड नर्स और संविदा समाप्त होने वाले डाॅक्टर्स के नाम भी दर्ज हैं।

कोरोना वैक्सीनेशन की सूची में मृतकों के नाम मिलने से खलबली
X

लखनऊ। तीन दिन के उपरांत यानी 16 जनवरी से जब देश सहित उत्तर प्रदेश में भी कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू की जाने वाली है। ड्राइरन तथा तमाम सतर्कता के बावजूद अयोध्या में वैक्सीन लगवाने वाले लाभार्थियों की सूची में बड़ी लापरवाही मिली है। स्वास्थ्य यंत्रालय द्वारा तैयार की गई लाभार्थियों की इस सूची में मृतक नर्स, रिटायर्ड नर्स और संविदा समाप्त होने वाले डाॅक्टर्स के नाम भी दर्ज हैं।

कोरोना वैक्सीनेशन से पहले यह लापरवाही सामने आने से स्वास्थ्य मंत्रालय में सवाल खडे हो रहे हैं। योगी सरकार डैमेज कंट्रोल में लग चुकी है। अयोध्या पहुंचे राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रताप सिंह के सामने जब यह केस सामने आया तो उन्होंने आनन फानन में कार्रवाई करने का आदेश जारी करते हुए लापरवाह कर्मचारियों पर एक्शन लिए जाने की बात भी कही गई है। उन्होंने बोला कि राज्य में डाॅक्टरों की बेहद कमी है। यह संख्या अकेले डाॅक्टरों की 8 से 10 हजार है। ऐसे में प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो सकती है। उन्होंने कहा कि हालांकि, एक हजार डाॅक्टरों को तैनाती की गई है। लापरवाही करने वालों पर एक्शन लेने की बात की जा रही है, लेकिन प्रश्न यह है कि आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े राज्य यूपी में यह गलती कैसे हो गई। वह भी महज तीन दिन के उपरांत यानी 16 जनवरी से जब देश सहित उत्तर प्रदेश में भी कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू की जाने वाली है। शुरूआत में इतनी बड़ी लापरवाही बरती गई तो आगे क्या हो सकता है। प्रदेश के गरीबों को आखिर कैसे वैक्सीन मिल पाएगी? जंहा इस बात का पता चला है कि 16 जनवरी को देश के साथ यूपी के 852 सेंटरों पर कोरोना वायरस का टीका हेल्थ वर्करों को लगाया जाने वाला है, जिन्हें चिन्हित कर लिस्ट तैयार कर दी गई है।

Next Story