Top
undefined

मंदिर, श्मशान और जलाशय पर सबका अधिकार : मोहन भागवत

मंदिर, श्मशान और जलाशय पर सबका अधिकार : मोहन भागवत
X

लखनऊ। हिंदू समाज में सामाजिक समरसता पर बल देते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आज कहा कि हर मंदिर, श्मशान तथा जलाशयों पर सभी जातियों का बराबर का हक है। इसमें भेदभाव गलत है। कानपुर के बाद लखनऊ में अपने प्रवास के दौरान संघ प्रमुख ने अवध प्रान्त के प्रवास के दूसरे दिन संघ पदाधिकारियों से वार्ता में कहा कि कोई भी ऐसी जाति नहीं है जिसमें श्रेष्ठ, महान तथा देशभक्त लोगों ने जन्म ना लिया हो। हमारे मंदिर, श्मशान और जलाशय पर सभी जातियों का बराबर अधिकार है। उन्होंने महापुरुषों को जातियों में बांटने को गलत बताया और कहा कि महापुरुष अपने श्रेष्ठ कार्यों की बदौलत ही महापुरुष हैं और उनको उसी दृष्टि से देखे जाना जरूरी है। भागवत ने गौ आधारित तथा प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने संघ के स्वयंसेवकों को समाज में देशहित, प्रकृति हित में किसी भी सामाजिक अथवा धार्मिक संगठन द्वारा किये जाने वाले कार्य में आगे बढ़कर सहयोग करने के लिए कहा । उन्होंने कहा कि हमारे समाज में परिवार की एक विस्तृत कल्पना है, इसमें केवल पति, पत्नी और बच्चे ही परिवार नहीं है बल्कि बुआ, काका, काकी, चाचा, चाची, दादी, दादा भी प्राचीन काल से शामिल रहे हैं। उन्होंने प्रकृति और पर्यावरण के संरक्षण को भी जरूरी बताया।

Next Story