Top
undefined

राम मंदिर के पिलर की खुदाई 15 सितम्बर से संभव

एक मीटर ब्यास के पिलर की नींव 200 फीट गहरी रहेगी। यदि यह मानक के अनुरूप मजबूत मिलता है तो 15 अक्टूबर के बाद अन्य खंभों के गड्ढों की खुदाई की जाएगी।

राम मंदिर के पिलर की खुदाई 15 सितम्बर से संभव
X

अयोध्या। राम मंदिर का नक्शा एडीए से स्वीकृत होने के बाद मंदिर के निर्माण को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र की देखरेख में पिलर की खुदाई का परीक्षण करने के बाद 15 सितंबर से पहले पिलर की नींव की खुदाई शुरू होने की उम्मीद है। एक मीटर ब्यास के पिलर की नींव 200 फीट गहरी रहेगी। यदि यह मानक के अनुरूप मजबूत मिलता है तो 15 अक्टूबर के बाद अन्य खंभों के गड्ढों की खुदाई की जाएगी।

अयोध्या में राम मंदिर का नक्शा एडीए से पास हो चुका है। इसके बाद नींव के पिलर की खुदाई की तैयारी के लिए राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र ने सर्किट हाउस में एल एंड टी के इंजीनियरों व ट्रस्ट के सदस्यों चंपत राय, डाॅ अनिल मिश्र तथा जिलाधिकारी एके झा के साथ बैठक कर चर्चा की। सोमवार को अयोध्या पहुंचे मिश्र ने मंगलवार को मंदिर परिसर व वहां पहुंची मशीनों आदि का तकनीकी टीम के साथ निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि एक हजार साल तक मंदिर की मजबूती बनी रहनी है इसी के हिसाब से नींव का परीक्षण और तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है। चंपत राय के मुताबिक सबसे पहले केवल एक पिलर के गड्ढे की खुदाई 15सितम्बर को शुरू हो सकती है। मानक के मुताबिक कंक्रीट का मसाला भर कर इसे तैयार करने के बाद इसकी मजबूती का परीक्षण होगा। पिलर परीक्षण में मजबूत पाया गया तो 15अक्टूबर के बाद बाकी बचे 1100 पिलर के गड्ढे की खुदाई शुरू कर दी जाएगी। चंपत राय ने कहा कि मंदिर की नींव का निर्माण पूरी तरह से वैज्ञानिक व तकनीकी परीक्षण करने के बाद ही शुरू होगा। इसे लेकर कोई जल्द बाजी नहीं की जाएगी।

Next Story