Top
undefined

कोआपरेटिव चुनाव में भगवा राज, तीन दशक बाद सपा सफा

ग्रामीण विकास बैंकों के चुनाव में समाजवादी पार्टी का सूपडा साफ हो गया है। इन चुनावों में भाजपा ने 323 शाखाओं में 293 पर जीत दर्ज की जबकि विपक्षी दलों को सिर्फ 19 सीटों पर विजय मिली हैं।

कोआपरेटिव चुनाव में भगवा राज, तीन दशक बाद सपा सफा
X

लखनऊ। लंबे समय तक उत्तर प्रदेश सहकारी ग्रामीण विकास बैंकों पर कब्जा कायम रखने वाली समाजवादी पार्टी को इस बार भाजपा ने कडी पटखनी दी है। इसके चलते इन संस्थाओं पर करीब तीन दशक से चला आ रहा सपा का रुतबा खत्म हो गया।

प्रदेश में ग्रामीण विकास बैंकों के चुनाव में समाजवादी पार्टी का सूपडा साफ हो गया है। इन चुनावों में भाजपा ने 323 शाखाओं में 293 पर जीत दर्ज की जबकि विपक्षी दलों को सिर्फ 19 सीटों पर विजय मिली हैं। 11 सीटों पर चुनाव नहीं हो सके। विपक्ष ने इसके लिए भाजपा पर सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करते हुए चुनावों को हाइजैक करने का आरोप लगाया है।

सत्ता की हनक से चलने वाली सहकारिता में 1991 स सहकारिता के क्षेत्र में समाजवादी पार्टी का दबदबा रहा। कुछ समय के लिए बसपा ने भी इस क्षेत्र में उपस्थिति दर्ज कराई, लेकिन इस बार भाजपा ने पूरी तरह से सहकारी ग्रामीण विकास बैंक की सियासत पर कब्जा कर विपक्ष को सोचने पर मजबूर कर दिया है। चुनावों के दौरान कई जगह सपा और भाजपा समर्थकों के बीच टकराव की नौबत भी आई।

Next Story