Top
undefined

4 करोड़ की चरस के साथ दो ड्रग सप्लायर बरेली पुलिस की गिरफ्त में

लखनऊ बहुचर्चित सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या प्रकरण में रिया चक्रवर्ती की गिरफ्तारी के बाद एक से बढ़कर एक खुलासे हो रहे हैं। इन्हीं खुलासों के तहत एक बड़े ड्रग रैकेट का पता चला है। इस ड्रग रैकेट का जाल देश के कई शहरों में फैला हुआ है।।रिया चक्रवर्ती से मिली जानकारी के बाद देश के लगभग सभी राज्यों में मादक पदार्थ सप्लायर के रैकेट को तहस-नहस करने के लिए पुलिस ताबड़तोड़ कार्यवाही कर रही है। खुफिया विभाग से मिले इनपुट के आधार पर बरेली पुलिस को दो कुख्यात ड्रग सप्लायरों को दबोचने में सफलता हासिल हुई है। इन ड्रग सप्लायर के पास चार करोड़ की चरस मिली है। पकड़े गए शातिर तस्कर गुलाम नबी और असीम बरेली जनपद के रहने वाले हैं। मीडिया से बातचीत में एसएसपी शैलेश कुमार पांडे ने बताया कि पुलिस को पिछले कुछ दिनों से सूचना मिल रही थी कि कुछ लोग 4 किलो अफीम लेकर बरेली से गाजियाबाद के लिए निकलेंगे। मुखबिर से प्राप्त सूचना के आधार पर उत्तर प्रदेश के बरेली जनपद की इज्जतनगर थाना पुलिस बैरिकेडिंग लगाकर चेकिंग कर रही थी। चेकिंग के दौरान 4 किलो चरस के साथ दो शातिर तस्कर आते दिखाए दिए।

मुखबिर का इशारा करते ही पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। इन तस्करों के कब्जे से पुलिस ने 4 करोड़ रुपए की चरस बरामद की है. ये तस्कर बरेली से चरस लेकर गाजियाबाद जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने दोनों को रहपुरा रोड से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के चंगुल में आए दोनों शातिर तस्कर उत्तर प्रदेश के अलावा विभिन्न जनपदों में मादक पदार्थों की तस्करी करते हैं। पकड़े गए दोनों शातिर तस्करों गुलाम नबी और असीम, बरेली जनपद के रहने वाले हैं। एसएसपी शैलेश कुमार पांडे ने तस्करी गिरोह के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि पिछले दिनों पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ नशे के सौदागर 4 किलो अफीम लेकर बरेली से गाजियाबाद के लिए निकलेंगे। नशे के सौदागरों को दबोचने के लिए थाना इज्जत नगर पुलिस ने कर्मचारी नगर चौकी क्षेत्र में सिविल वर्दी में अपने कुछ पुलिसकर्मी तैनात कर दिए। जिसके बाद मुखबिर के इशारे पर पुलिस ने गाजियाबाद की तरफ जाती हुई एक गाड़ी को चेकिंग के लिए रोका। गाड़ी में बैठे दोनों तस्करों ने गाड़ी रुकते ही बाहर निकलकर भागने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने इन्हें घेराबंदी करके हिरासत में ले लिया। वहां से पुलिस इन दोनों ड्रग सप्लायर को थाने लाकर पूछताछ शुरू की।

पुलिस की कड़ी पूछतााछ में उन्होंने बताया कि इस गाड़ी में 4 किलो चरस है जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 4 करोड़ है। पुलिस को यह भी बताया कि वह दोनों पिछले काफी अर्से से मादक पदार्थों की तस्करी का काम कर रहेे है। इन दोनों तस्करों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस अफसरों का मानना है कि अब जिले में मादक पदार्थों की तस्करी गैंग पर जरूर लगाम लग जायेगी। फिलहाल एसएसपी शैलेश कुमार पांडे ने तस्करी गैंग का भंडाफोड़ करने वाली पुलिस टीम को 25000 रुपए का इनाम दिया है। एसएसपी ने कहा कि अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने वाले पुलिस कर्मियों को प्रशस्ति पत्र और नगद इनाम देकर पुरस्कृत किया जाएगा।

Next Story