Top
undefined

सीएम योगी ने खुद को किया आइसोलेट, कई अफसर पाजिटिव

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम-11 में शामिल अफसरों के साथ ही मुख्यमंत्री सचिवालय के कई बड़े अधिकारियों को अपनी चपेट में ले लिया है। इनमें मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एसपी गोयल, अभिषेक कौशिक, विशेष सचिव अमित सिंह सहित कुछ अन्य कर्मचारी भी शामिल है।

सीएम योगी ने खुद को किया आइसोलेट, कई अफसर पाजिटिव
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम-11 में शामिल अफसरों के साथ ही मुख्यमंत्री सचिवालय के कई बड़े अधिकारियों को अपनी चपेट में ले लिया है। इनमें मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एसपी गोयल, अभिषेक कौशिक, विशेष सचिव अमित सिंह सहित कुछ अन्य कर्मचारी भी शामिल है। इनके पाजिटिव आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद को आइसोलेट कर लिया है। उनके द्वारा आज सवेरे टीम-11 के साथ भी वर्चुअल मीटिंग ही की गयी। इसके साथ ही शाम को सांसदों और विधायकों व बाद में धर्मगुरूओं के साथ की गयी वीसी में भी मुख्यमंत्री अकेले ही नजर आये।

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के आंकड़ें बढ़ते जा रहे है। इस बीच बड़ी खबर राजधानी लखनऊ से आ रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद को अपने आवास पर आइसोलेट कर लिया हैं। मंगलवार को सीएम योगी ने ट्वीट कर कहा कि आज मेरे कार्यालय के कुछ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हुए हैं। यह अधिकारी मेरे संपर्क में रहे हैं, अतः मैंने एहतियातन अपने को आइसोलेट कर लिया है एवं सभी कार्य वर्चुअली प्रारम्भ कर रहा हूं।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एसपी गोयल ओएसडी अभिषेक कौशिक, विशेष सचिव अमित सिंह सहित कुछ अन्य कर्मचारी कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। उत्तर प्रदेश में कोरोना का संक्रमण बेकाबू हो गया है और आंकड़े भयावह होते जा रहे हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 18,021 नए मामले सामने आए हैं जो कि अब तक का एक रिकॉर्ड है। सोमवार को 13685 संक्रमित मिले थे। कोरोना के नए मामलों में अकेले 5382 तो लखनऊ के ही हैं। इसके अलावा, प्रयागराज में 1856, वाराणसी में 1404 व कानपुर में 1271 नए मामले सामने आए हैं।

अब तक यूपी के 20 से ज्यादा जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया जा चुका है, इसके बाद भी कोरोना के बढ़ते मामले डरा रहे हैं। कोविड जांच की रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए और सैंपल से लेकर, एडमीशन, डिस्चार्ज तक मॉनिटरिंग के लिए एक श्कोविड पोर्टलश् बनाया गया है। जिसकी मदद से जांच का परिणाम पोर्टल पर अपलोड होने के बाद कोई भी व्यक्ति घर बैठे अपनी रिपोर्ट प्राप्त कर सकता है। प्रदेश के हर महत्वपूर्ण कार्यालय और प्रतिष्ठान में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना की गई है, जिसमें आईआर थर्मोमीटर और पल्स आक्सिमीटर रखा गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ति्रयों के द्वारा घर-घर जाकर कोविड के बारे में जागरुक किया जा रहा है।

Next Story