Top
undefined

खाप चौधरी से मिलने पहुंचे मोदी-योगी के मंत्रियों का हुआ विरोध

शामली जनपद के जाट बाहुल्य गांव भैंसवाल में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के खिलाफ ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी की

शामली। बत्तीसा खाप के गांव भैंसवाल में चौधरी उदयवीर के घर पहुचने पर भाजपा नेताओं का जमकर विरोध हुआ। भाजपा और केंद्रीय मंत्री सजीव बालियान मुर्दाबाद किसान एकता जिंदाबाद के नारे लगााए गये। इस दौरान तनाव पूर्ण माहौल बन गया था।

गांव भैंसवाल में रविवार को केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान, यूपी सरकार के गन्ना मंत्री सुरेश राणा, बीजेपी पश्चिम उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल, शामली विधायक तेजिंद्र निर्वाल आदि नेता पहुचे थे।

केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान जब अपने साथ अन्य जनपदों से आए मेहमानों को लेकर इस गांव में पहुंचे तो वहां खाप चौधरी के घर जाने से पहले एक सियासी दल से जुड़े लोगों ने संजीव बालियान मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू किए। इस विरोध को लेकर मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि खाप का मतलब हमेशा जोड़ना रहा है, परंतु शामली के भैंसवाल गांव में जो हुआ उसे उस नजर से देखा नहीं जा सकता। संजीव बालियान ने नारे लगाने वालों से कहा कि 10-15 लोगों के मुर्दाबाद कहने से संजीव बालियान मुर्दाबाद नहीं हो जाता।

उन्होंने कहा कि वह संघर्ष करके इस स्तर पर आए हैं और इस तरह की रुकावट से डरने वाले नहीं हैं और अपने संघर्ष को जारी रखेंगे। डॉक्टर संजीव बालियान ने कहा कि वह जनता के बीच में जाएंगे चाहे कुछ भी हो। वह अपनों के बीच में जाने से नहीं रुकेंगे भले ही विपक्षी दल उनका कितना ही विरोध करने का प्रयास करें।

संजीव बालियान ने कहा कि डर कर अपने लोगों का साथ नहीं दिया जा सकता। वह तो तब नहीं डरे जब केंद्र और प्रदेश में हिंदू विरोधी, जाट विरोधी सरकार थी और वह उनके सामने अड़कर खड़े हुए थे और अपने लोगों को न्याय दिलाने में आगे थे। डॉक्टर संजीव बालियान ने कहा कि वह खाप चौधरियों की इज्जत करते हैं और आप सिस्टम का सम्मान करते हैं इसलिए आप चौधरी अगर नाराज है तो वे उन्हें मनाएंगे भी और समझाएंगे भी यह उनका हक है।

दरअसल भैंसवाल गांव राष्ट्रीय लोक दल का समर्थित गांव माना जाता है। पिछले दिनों यहां पर राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने किसान आंदोलन को समर्थन देने के लिए किसान महापंचायत की थी। इस गांव में डीएम जसप्रीत कौर ने महापंचायत को लेकर अनुमति नहीं दी थी।

Next Story