Top
undefined

कोरोना की तीसरी लहर रोकने की तैयारी, यूपी में 4 जून से सीरो सर्वे

कोरोना की दूसरी लहर में जान और माल के बड़े नुकसान को झेलने के बाद अब तीसरी लहर को रोकने की तैयारी सरकार ने शुरू कर दी है। इसके लिए लोगों के शरीर में एंटीबाडी बनने की स्थिति का आकलन करने के लिए योगी सरकार 4 जून से सीरो सर्वे शुरू कराने की तैयारी कर चुकी है। इससे पहले कोरोना की पहली लहर के दौरान पिछले साल सितंबर में 11 जिलों में सीरो सर्वे कराया गया था। यह सर्वे लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर, आगरा, प्रयागराज, गाजियाबाद, मेरठ, कौशांबी, बागपत व मुरादाबाद में हुआ था।

कोरोना की तीसरी लहर रोकने की तैयारी, यूपी में 4 जून से सीरो सर्वे
X

लखनऊ। कोरोना की दूसरी लहर में जान और माल के बड़े नुकसान को झेलने के बाद अब तीसरी लहर को रोकने की तैयारी सरकार ने शुरू कर दी है। इसके लिए लोगों के शरीर में एंटीबाडी बनने की स्थिति का आकलन करने के लिए योगी सरकार 4 जून से सीरो सर्वे शुरू कराने की तैयारी कर चुकी है। इससे पहले कोरोना की पहली लहर के दौरान पिछले साल सितंबर में 11 जिलों में सीरो सर्वे कराया गया था।

यूपी में कोरोना संक्रमण की गहन पड़ताल के लिए 4 जून से सीरो सर्वे शुरू किया जा रहा है। सभी 75 जिलों में होने वाले इस सर्वे के माध्यम से यह पता लगाया जाएगा कि किस जिले के किस क्षेत्र में कोरोना का कितना संक्रमण फैला और आबादी का कितना हिस्सा संक्रमित हुआ। यही नहीं, इससे यह भी सामने आएगा कि कितने लोगों में कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबाडी बन चुकी है। जो तीसरी लहर के प्रभाव को कम करने में सहायक होगी।

राज्य स्तरीय टीम-09 की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीरो सर्वे को लेकर हो रही तैयारियों की जानकारी ली। अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि 4 जून से शुरू हो रहे इस सर्वे को लेकर कार्ययोजना तैयार हो चुकी है। सैंपलिंग कर लिंग और आयु सहित विभिन्न मानकों पर सर्वेक्षण की रिपोर्ट तैयार की जाएगी। जिलेवार सर्वे करने वाले कार्मिकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके परिणाम जून के अंत तक आने की संभावना उनके द्वारा जताई गई है।

इससे पहले कोरोना की पहली लहर के दौरान पिछले साल सितंबर में 11 जिलों में सीरो सर्वे कराया गया था। यह सर्वे लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर, आगरा, प्रयागराज, गाजियाबाद, मेरठ, कौशांबी, बागपत व मुरादाबाद में हुआ था। उस समय सीरो सर्वे में 22.1 फीसद लोगों में एंटीबाडी पाई गई थी। दरअसल, सीएम योगी के 3टी यानी 'ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट' की नीति से प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम में सफलता मिल रही है। पाजिटिविटी दर में लगातार कमी तथा रिकवरी दर में निरंतर बढोतरी से राज्य में कोविड संक्रमण के मामलों में आशानुकूल तेजी से कमी आयी है। यही वजह है कि मंगलवार को 3.24 लाख टेस्ट के बावजूद पिछले 24 घंटे में सिर्फ 1430 पाजिटिव केस मिले। अब रिकवरी रेट भी 96.9 प्रतिशत हो गई है। अब तक कुल 4.97 करोड़ टेस्ट हो चुके हैं।

Next Story