Top
undefined

राकेश टिकैत बोले-किसान आंदोलन के समर्थन में भाजपा का ये सांसद देगा इस्तीफा

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता चौ। राकेश टिकैत ने कहा कि किसान आंदोलन के लिए भाजपा की गलत नीतियों को लेकर हम पश्चिम बंगाल तक भी जायेंगे। वहां चल रहे चुनाव प्रचार के दौरान ही हम किसान पंचायतों का आयोजन करेंगे।

राकेश टिकैत बोले-किसान आंदोलन के समर्थन में भाजपा का ये सांसद देगा इस्तीफा
X

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौ. राकेश टिकैत ने तेलंगाना और कर्नाटक में किसान पंचायतों का कार्यक्रम तय करने के बाद अब पश्चिम बंगाल में भी भाजपा के मिशन बंगाल को फेल करने के लिए किसान पंचायतों का आयोजन करने का ऐलान कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द ही भाजपा का एक सांसद तीन कृषि कानूनों के विरोध में और किसान आंदोलन के समर्थन में इस्तीफा देने जा रहा है। उन्होंने कहा कि संसद में जितने भाजपा के सांसदों की संख्या है, उतने दिन यह किसान आंदोलन चलाया जायेगा। राकेश टिकैत के इस ऐलान और दावे के बाद देश मेें सियासी गरमाहट बन गयी है।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत ने दावा किया है कि जल्द ही भारतीय जनता पार्टी का एक सांसद किसान आंदोलन के समर्थन में इस्तीफा देगा। हालांकि उन्होंने इस्तीफा देने वाले भाजपा सांसद का नाम नहीं लिया। राकेश टिकैत के इस ऐलान के बाद अटकलों का दौर शुरू हो गया है। कई जानकारों का मानना है कि पश्चिमी यूपी का कोई भाजपा सांसद इस्तीफा दे सकता है। कुछ लोगों का मानना है कि यह शुरुआत हरियाणा या पंजाब से भी हो सकती है। सूत्रों के अनुसार राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार कह रही है कि हम कहीं भी फसल बेच सकते हैं। किसी भी दाम पर बेच सकते हैं। ऐसे में जहां पर कृषि के कानून पास किये गये हैंा, उसी संसद के बाहर किसान फसल बेचेंगे क्योंकि वहां पर तो एमएसपी की गांरटी किसानों को मिल ही जाएगी।

उन्होंने बताया कि वह किसानों से कह रहे हैं कि वह अपनी फसल लेकर सीधे दिल्ली लेकर आएं और संसद पर बेचें ताकि उन्हें सही दाम मिल सके। उन्होंने दावा किया कि वह पश्चिम बंगाल में भी जाकर किसान पंचायत करेंगे। उन्होंने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में किसानों का चुनावी, राजनीतिक या वोट से कोई लेना देना नहीं है लेकिन हम वहां पर जाकर किसानों को जागरूक करेंगे और केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के नुकसान को बतायेंगे। साथ ही वह किसानों को यह भी बताएंगे कि कौन सी सरकार उनके हित में है। भाकियू नेता ने दावा किया कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं हो जाएंगे और एमएसपी का कानून नहीं बनेगा, तब तक हमारा आंदोलन खत्म नहीं होगा। यह आंदोलन उतने दिन चलाया जायेगा, जिनमें संसद में भाजपा सांसदों की संख्या है।

Next Story