Top
undefined

अगस्त क्रांति दिवस पर पिछड़ों ने मांगा आरक्षण, संघर्ष समिति ने किया कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश की कुम्हार, कश्यप, कहार और प्रजापति सहित 17 अति पिछड़ी जातियों की स्थिति को बहुत दयनीय

मुजफ्फरनगर। प्रजापति कुम्हार समाज की 17 पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जाति का दर्जा दिलाये जाने की मांग को लेकर आज अगस्त क्रांति दिवस मनाते हुए कलेक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को ज्ञापन प्रेषित किया गया।

बुधवार को राष्ट्रीय प्रजापति, कुम्हार अनुसूचित जाति आरक्षण समिति, उ.प्र. प्रजापति महासभा एवं कश्यप समाज संघर्ष मोर्चा मुजफ्फरनगर के तत्वाधान में आज 26 अगस्त क्रांति दिवस मनाते हुए कलेक्ट्रेट स्थित डीएम कार्यालय पर प्रदर्शन किया गया। आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सत्यवीर सिंह प्रजापति ने राष्ट्रपति और राज्यपाल उ.प्र. के नाम ज्ञापन सौंपा। इसमें उत्तर प्रदेश की कुम्हार, कश्यप, कहार और प्रजापति सहित 17 अति पिछड़ी जातियों की स्थिति को बहुत दयनीय बताते हुए उन्होंने कहा कि इन जातियों के परम्परागत व्यवसाय और कुटीर धंधे आधुनिक तकनीक ने छीनकर इनको बर्बादी के कगार पर ला खड़ा किया है।

उनहोेंने कहा कि पूर्व में उत्तर प्रदेश में सरकार ने इन 17 जातियों और इनकी उपजातियों को अनुसूचित जाति में शामिल किया था। यह आज भी दर्ज, लेकिन इनको लाभ नहीं मिल रहा है। उन्होंने मांग की है कि यूपी और केन्द्र में भाजपा की सरकारें हैं, ऐसे में 17 जातियों को एससी दर्जा देने का प्रस्ताव यूपी में पास करते हुए केन्द्र में सीधा अध्यादेश लाकर इसको पारित करते हुए समाज को लाभ दिलाया जाये। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में 17 अति पिछड़ी जातियों के अनुसूचित जाति श्रेणी के जाति प्रमाण पत्र तहसीलों से बनाने के आर्डर जारी करने, जातिगत आधार पर जनगणना कराने, जनसंख्या के अनुपात में भागीदारी देने, पिछड़ा वर्ग की क्रीमी लेयर प्रस्ताव खारिज करने की मांग की गयी हैं।

ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप स सत्यवीर प्रजापति, रामशरण कश्यप, प्रमोद प्रजापति, नरेश कश्यप, मदन प्रजापति, विजय कश्यप, घनश्याम प्रजापति, रामनिवास प्रजापति, रामकुमार कश्यप, सुशील प्रजापति, सुभाश कुमा, प्रभात प्रजापति, नरेन्द्र प्रजापति, कपिल प्रजापति, सागर, रवि कुमार, सोनू प्रजापति आदि शामिल रहे।

Next Story