Top
undefined

काली ऊफनाई-गांव शेरपुर का पुल बहने को तैयार, जान जोखिम में डाल रहे ग्रामीण

ग्राम पंचायत शेरपुर के पास से जा रही काली नदी इस समय उफान पर पहुंचने लगी है। इससे इस नदी के आसपास बसे गांवों में भी हलचल है।

काली ऊफनाई-गांव शेरपुर का पुल बहने को तैयार, जान जोखिम में डाल रहे ग्रामीण
X

मुजफ्फरनगर। पहाडों पर हो रही लगातार भारी बारिश से नदी नाले सभी उफान पर चल रहे है। जनपद में गंगनहर में पानी का स्तर खतरे के निशान को भी पार चुका है, जिसके कारण पूरा खादर क्षेत्र गंगा और उसकी सहायक नदियों के उफान पर आने के कारण पानी पानी हो रहा है। इसके साथ ही काली नदी और हिंडन नदी में भी भरपूर पानी होने के कारण इसके आसपास और किनारे पर बसे गई गांवों के लोगों के लिए परेशान पैदा हो गयी है। शहर से सटा गांव शेरपुर भी ऐसी ही परेशानी का शिकार बन रहा है। यहां पर ग्रामीणों ने गांव से शहर आने जाने के लिए काली नदी पर एक अस्थाई पुल बनाया हुआ है, जो नदी का जल स्तर बढ़ जाने के कारण बहाव की जद में है। यह पुल यदि पानी में बह गया तो गांव से सम्पर्क टूटने की स्थिति उत्पन्न हो जायेगी।

ग्राम पंचायत शेरपुर के पास से जा रही काली नदी इस समय उफान पर पहुंचने लगी है। इससे इस नदी के आसपास बसे गांवों में भी हलचल है। शहर से सटे गांव शेरपुर में काली नदी के उफान पर आने के कारण ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यहां पर ग्रामीणों द्वारा गांव में आने जाने के लिए नदी पर बनाये गये अस्थाई पुल भी नदी के ऊफान की भेंट चढने लगा है। इस पुल के ऊपर से नदी का पानी बहने के कारण ग्रामीणों को गांव से शहर और शहर से वापस गांव पहुंचने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शेरपुर गांव में आवागमन के लिए ग्रामीणों ने खुद ही काली नदी पर अस्थाई पुल बनाया था। आज यह पुल पानी के तेज बहाव के कारण बहने को तैयार है। इस पुल का निर्माण ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से किया था। करीब 2 साल पहले भी यह पुल टूट गया था, उसके बाद ग्रामवासियों ने दोबारा से पुल बनाया। अब फिर से यह टूटने को तैयार है। नदी में पानी इतना ज्यादा आ गया है कि पानी पुल के ऊपर से होकर गुजर रहा है। ग्रामवासियों को पुल गिरने का डर सता रहा है। पानी के बहाव की चपेट में आये इसी पुल से ग्रामीणों को आवागमन करना पड़ रहा है। इससे ग्रामीणों के जीवन पर भी संकट बना हुआ है, किसी भी दिन यहां पर हादसा हो सकता है। यदि यह पुल नदी के ऊफान पर आने के कारण प्रभावित होता है तो ग्रामीणों को गांव तक ही सीमित रहना पड़ सकता है। शहर से सम्पर्क का यह रास्ता बन्द हो जायेगा।

Next Story