Top
undefined

Muzaffarnagar वूमैन हाॅस्पिटल ने बनाया रिकार्ड, यूपी में अव्वल, मिलेंगे 50 लाख रुपये

मुजफ्फरनगर में वूमैन सिविल हाॅस्पिटल में आज खुशी का वातावरण था, हाॅस्पिटल ने अपने लक्ष्य की प्राप्ति करते हुए उत्तर प्रदेश में अव्वल स्थान पाते हुए कायाकल्प अवार्ड प्राप्त किया है।

Muzaffarnagar वूमैन हाॅस्पिटल ने बनाया रिकार्ड, यूपी में अव्वल, मिलेंगे 50 लाख रुपये
X

मुजफ्फरनगर। स्वच्छता और सेवा के पैमाने पर जनपद के जिला महिला अस्पताल ने कामयाबी का चैका मारते हुए उत्तर प्रदेश में पहला स्थान हासिल किया है। महिला अस्पताल की सीएमएस डा. अमृता रानी भाम्बे के कार्याकाल की पहली और उत्कृष्ट उपलब्धि है। कोरोना काल में अस्पताल को प्रधानमंत्री कायाकल्प अवार्ड के अन्तर्गत मिले इस अव्वल नम्बर के कारण चिकित्सकों और कर्मचारियों में उत्साह का वातावरण है। यह अस्पताल 2016 से लगातार 'कायाकल्प' में अपनी उपस्थित दर्ज करा रहा है। इन चालर सालों में महिला अस्पताल आठवें से पहली पायदान पर पहुंचने में सफल रहा है। इस उपलब्धि के लिए प्रदेश में प्रथम आने पर अस्पताल को 50 लाख रुपये की पुरस्कार राशि मिलेगी। इस राशि से अस्पताल का विकास होगा।

देशभर में सरकारी अस्पतालों को स्वच्छता और सेवा के पैमाने पर निखारने के लिए केन्द्र सरकार ने प्रधानमंत्री कायाकल्प अवार्ड की एक प्रतिस्पर्धा शुरू की थी। इसमें सरकारी महिला और पुरुष अस्पतालों में सेवा, स्वच्छता और व्यवस्था को लेकर वार्षिक निरीक्षण के आधार पर अंक निर्धारित किये जाते हैं और इन्हीं अंकों के आधार पर राज्यवार अस्पतालों को पुरस्कार घोषित किये जाते हैं। आज कायाकल्प अवार्ड 2019-20 का ऐलान किया गया है। इसमेें मुजफ्फरनगर के जिला महिला अस्पताल को उत्तर प्रदेश में अव्वल पायदान पर रखा गया है। यूपी में अस्पताल के प्रथम आने पर यहां सीएमएस डा. अमृता रानी भाम्बे के साथ चिकित्सकों और चिकित्सा कर्मचारियों ने खूब जश्न मनाया। अमृता रानी भाम्बे के सीएमएस के रूप में यहां कार्यकाल में यह पहला अवार्ड है। अस्पताल की ओर से पिछले कई वर्षों से इस उपलब्धि के लिए पूर्व सीएमएस डा. अमिता गर्ग के नेतृत्व में प्रयास किये जा रहे थे। साल 2016 से यह अस्पताल लगातार कायाकल्प अवार्ड जीत रहा है। कायाकल्प अवार्ड के अन्तर्गत कायाकल्प अवार्ड के तहत अस्पताल के रख-रखाव, सुविधाएं, स्टाफ, साफ-सफाई, मरीजों के लिए बेहतर इलाज के आधार पर नंबर दिए जाते हैं। इसके लिए एक राज्यस्तरीय टीम अस्पताल में आकर सभी बिंदुओं पर मूल्यांकन करती है। उसके बाद अवार्ड के लिए नामित की जाती है।

सीएमएस डा. अमृता रानी भाम्बे ने बताया कि आज प्रधानमंत्री कायाकल्प अवार्ड के लिए चयनित अस्पतालों का ऐलान किया गया है। इसमें 2019-20 के लिए हमारे अस्पताल को यूपी में पहला स्थान मिला है। इससे पूर्व विगत वर्ष 2018-19 में भी कायाकल्प कार्यक्रम के अन्तर्गत जिला महिला अस्पताल को उच्च श्रेणी में रखा गया और इस अस्पताल के द्वारा उत्तर प्रदेश में चैथा स्थान हासिल किया गया था। इससे पूर्व वर्ष 2017-18 में पांचवा और साल 2016-17 में कायाकल्प अवार्ड में आठवां स्थान प्राप्त किया था। सीएमएस डाॅ. अमृता रानी भाम्बे ने ने कहा कि इस साल हमने पूरी मेहनत के साथ काम किया और यह लक्ष्य तय किया था कि अस्पताल को उत्तर प्रदेश में पहला स्थान हासिल हो। आज इस परिणाम से हम सभी प्रसन्न हैं और अस्पताल में जश्न का माहौल है। उन्होंने बताया कि इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते कायाकल्प अवार्ड समारोह नहीं होगा। पुरस्कार और प्रमाण पत्र यहीं पर भेजे जायेंगे।

जनवरी में किया था राज्य स्तरीय टीम ने निरीक्षण

महिला अस्तपाल की सीएमएस डा. अमृता रानी भाम्बे ने बताया कि कायाकल्प अवार्ड 2019-20 योजना के अंतर्गत राज्यस्तरीय टीम जनवरी 2020 में जिला महिला अस्पताल में निरीक्षण को पहुंची। टीम में शामिल डा. नवदीप गुप्ता, डा. विनोद कुमार तथा डा. प्रशांत श्रीवास्तव ने दिनभर निरीक्षण किया। इस दौरान टीम ने एक्सटर्नल एसेसमेंट और इंटरनल व पियर एसेसमेंट किया। इसमें चिकित्सालय में दी जा रही सेवाओं की गुणवत्ता, हाइजीन गतिविधियां, कार्यप्रणाली तथा कूड़ा प्रबंधन के साथ सफाई व्यवस्था की मुख्य रूप से जांच की गई। टीम ने चिकित्सालय में आसपास के क्षेत्र में स्वच्छता, वाटर सेनीटेशन एवं हाइजीन गतिविधियां, सौंदर्यीकरण, वाहनों के आवागमन की व्यवस्था व प्रदूषण से मरीजों को बचाने की कार्यप्रणाली की भी जांच की। वहीं इस दौरान सीएमएस के भ्रमण रजिस्टर, डॉक्टरों द्वारा मरीजों को देखे गए मरीजों की संख्या, दवाई वितरण की व्यवस्थाएं भी देखी गई।

Next Story