Top
undefined

मुजफ्फरनगर में तीन धोखेबाज कोरोना पाॅजिटिव हुए लापता!

मुजफ्फरनगर जनपद में कोरोना संक्रमण को लेकर रोज भारी संख्या में कोरोना पाॅजिटिव केस सामने आ रहे हैं, ऐसे में लोगों के द्वारा अपने कोविड टेस्ट को लेकर भी धोखाधड़ी की जा रही है, जिससे स्वास्थ्य बैचेन है, तो जिला प्रशासन का सिरदर्द बढ़ रहा है।

मुजफ्फरनगर में तीन धोखेबाज कोरोना पाॅजिटिव हुए लापता!
X

मुजफ्फरनगर। जनपद में कोरोना संक्रमण को लेकर लोग कितने गंभीर है, यह तो बाजार, अस्पताल, बैंक और डाकघर में भीड़ की स्थिति से ही हम समझ सकते हैं, जहां सोशल डिस्टेंस, मास्क और अन्य पाबंदियों को लोग लापरवाही नजर आते हैं, अब कोरोना को लेकर लोगों ने धोखेबाजी भी शुरू कर दी है। जिले में तीन कोरोना पाॅजिटिव लापता हो गये हैं, जिनको लेकर स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प की स्थिति है। विभागीय स्तर पर टीम को इन्हें तलाशने पर लगाया गया है, लेकिन उनको कोई पता नहीं चल पा रहा है। इन तीन धोखेबाज कोरोना पाॅजिटिव लोगों में दो केस आज ही सामने आये हैं।

जनपद में कोरोना संक्रमण ने आज नया रिकार्ड ही कायम कर दिया। जिले में शहर से लेकर गांव देहात तक कोरोना वायरस लगातार अपनी उपस्थिति डंके की चोट पर दर्ज करा रहा है, आज जिले में कुल 56 कोरोना पाॅजिटिव केस सामने आये हैं, जो अभी तक एक दिन में मिले कोरोना मामलों में सर्वाधिक हैं। इससे पहले एक दिन में 53 केस सामने आये थे। आज मिले पाॅजिटिव केस के साथ ही जिले में अब एक्टिव केस का आंकड़ा 400 के बेहद नजदीक पहुंच चुका है। इसमें अच्छी बात यह है कि 1486 कोरोना संक्रमित मामलों में से 1093 लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि कोरोना के कारण जिले में करीब 30 लोगों की मौत हो चुकी है। शनिवार को सामने आये 315 सैम्पल की रिपोर्ट के अनुसार जनपद में कुल 56 पाजिटिव केस मिले हैं, इनमें कोरोना वायरस का सबसे बड़ा हमला जिला कारागार पर हुआ है, यहां 25 कैदी और बंदी कोरोना पाॅजिटिव पाये गये हैं। जिला कारागार में अब तक यह एक दिन में सबसे अधिक केस हैं। इसी रिपोर्ट में आज फिर से दो कोरोना पाॅजिटिव मामले जिला महिला चिकित्सालय से बताये गये हैं, रिपोर्ट आने के बाद जब स्वास्थ्य विभाग की ओर से पाजिटिव लोगों को ट्रेस करने के लिए टीम जुटी तो वह जिला महिला चिकित्सालय के दो कोरोना पाजिटिव लोगों को तलाश पाने में विफल रहीं। महिला अस्पताल की सीएमएस डा. अमृता रानी भाम्बे के अनुसार, आज उनके चिकित्सालय से कोई भी स्टाफ या व्यक्ति कोरोना पाजिटिव नहीं आया है, उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की आज की रिपोर्ट में गड़बड़ी की बात कही।

इससे स्वास्थ्य विभाग से लेकर जिला प्रशासन तक हलचल मची नजर आयी। सीएमओ कार्यालय के सूत्रों के अनुसार यह दोनों केस पुरुष के हैं। इन व्यक्तियों ने अस्पताल में अपना टेस्ट कराया था, उस दौरान एड्रेस जिला महिला चिकित्सालय के स्टाफ के रूप में लिखवाया गया और मोबाइल नम्बर भी दिया गया। जब टीम ने मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क किया तो इन दोनों ने रिसीव ही नहीं किया। अब ये कौन है, कहां से है, स्वास्थ्य विभाग को कुछ भी पता नहीं चल पा रहा है। ये दोनों टेस्ट कराने के बाद लापता हो गये, अब इनको ट्रेस करना बड़ी चुनौती बना हुआ है। ऐसे ही शुक्रवार से भी एक कोरोना पाजिटिव पुरुष लापता है, जिसे तलाशने में स्वास्थ्य विभाग विफल साबित हो रहा है। सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को साकेत कालौनी निवासी एक व्यक्ति पाजिटिव पाया गया था, इस व्यक्ति ने जो मोबाइल नम्बर और एड्रेस लिखवाया वह फर्जी पाया गया। अब स्वास्थ्य विभाग कोरोना पाजिटिव इन तीन लापता मरीजों को ढूंढने में एडी चोटी के जोर लगाये हुए है।

Next Story