Top
undefined

मुजफ्फरनगर में बाजारों में उमड़ी भीड़,शहर जाम

मुजफ्फरनगर (नयन जागृति संवाददाता)। आज सवेरे 5 बजे खत्म हुई 55 घंटे के लाॅक डाउन की मियाद के साथ ही शहर में भारी भीड़भाड़ के कारण सारी सड़कें जाम हो गयी। शहर के बाजारों में दो दिन की बंदी के बाद आज बने खरीदारी के दबाव के कारण सारी व्यवस्था ही चौपट नजर आयी। शहर के सभी बाजारों में भयंकर भीड़ की आमद के कारण चौराहों के साथ गलियों तक भी यातायात जाम नजर आया।

मुजफ्फरनगर में बाजारों में उमड़ी भीड़,शहर जाम
X

मुजफ्फरनगर (नयन जागृति संवाददाता)। आज सवेरे 5 बजे खत्म हुई 55 घंटे के लाॅक डाउन की मियाद के साथ ही शहर में भारी भीड़भाड़ के कारण सारी सड़कें जाम हो गयी। शहर के बाजारों में दो दिन की बंदी के बाद आज बने खरीदारी के दबाव के कारण सारी व्यवस्था ही चौपट नजर आयी। शहर के सभी बाजारों में भयंकर भीड़ की आमद के कारण चौराहों के साथ गलियों तक भी यातायात जाम नजर आया। इसके साथ ही रविवार की बारिश के नजारें आज भी देखने को मिले। शहर के निचले इलाकों में आज भी जल भराव के कारण लोगों को परशोनी का सामना करना पड़ा। कई मौहल्लों में गलियों की दुर्दशा के चलते आवागमन भी प्रभावित हो रहा है। मकानों के आसपास भी पानी भरा हुआ है। वहीं आज दिन में मौसम पर भी इस बारिश का असर रहा। पूरे दिन बादल छाये रहे, धूप और छांव का सिलसिला बना रहने से मौसम की नरमाहट ने गर्मी से कुछ हद तक राहत प्रदान की। चौराहों पर पुलिस कर्मियों को यातायात व्यवस्था सुचारू बनाने के लिए दोपहर बाद तक भी कड़ी मशक्कत करते हुए देखा गया।


सोमवार को दो दिवसीय लाॅक डाउन खत्म हुआ तो गांव देहात के साथ ही शहर से भी भारी भीड़ ने बाजारों का रुख किया। सवेरे से ही बाजारों में लोगों की भारी भीड़ उमड़ी रही। फल और सब्जी मंडियों में शनिवार और रविवार के मुकाबले ज्यादा भीड़ नजर आये तो वहीं दाल मंडी और पान मंडी में भी गांव देहात और शहर के मौहल्लों से छोटे दुकानदारों की भीड़ ने खरीदारी का दबाव बनाया तो सारी व्यवस्था ही धड़ाम नजर आयी। यहां पर किसी भी प्रकार से सोशल डिस्टेंस नजर आ रहा था और ना ही कोविड-19 की अन्य गाइडलाइन का कोई पालन ही करता नजर आया।


भीड़ का आलम यह था कि दुकानों पर एक दूसरे से लोग भिड़े जा रहे थे। कई दुकानदार भी सेनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित नहीं कर पा रहे थे और खुद भी बिना मास्क के ही दुकानों पर बैठे दिखायी दिये। शहर में भगत सिंह रोड, एसडी मार्किट, गोल मार्किट, सदर बाजार सहित अन्य प्रमुख बाजारों के साथ ही मेरठ रोड और रुड़की रोड पर भी अच्छी खासी भीड़भाड़ बनी रही। शहर में भगत सिंह रोड पर तो भीड़ का यह आलम रहा कि यहां पर कई घंटों तक पैदल निकलना भी लोगों के लिए महाभारत बन गया था। यहां पर मिनट दर मिनट जाम ने आवागमन को अवरु( बनाये रखा। हालांकि शिव चौक और हनुमान चौक पर बेरिकेडिंग करते हुए पुलिस कर्मियों के द्वारा भगत सिंह रोड पर दो पहिया वाहनों को छोड़कर अन्य वाहनों का प्रवेश रोकने का काम किया गया, लेकिन भगत सिंह रोड से मिलते अन्य रास्तों के जरिये यहां पर ई रिक्शा और रेहडों के अलावा दूसरे वाहनों का प्रवेश हो जाने के कारण यातायाता व्यवस्था ठप्प होकर रह गयी थी। भगत सिंह रोड से लोहिया बाजार, पंचमुखी और सर्राफा बाजार में भी काफी भीड़ रही, जिस कारण यहां पर यातायात सुलभ नहीं रह सका। इसके अलावा अस्पताल चौराहें पर भी यातायात का भारी दबाव बन जाने के कारण यहां जाम की स्थिति बनी रही। यहां पर यातायात को संभालने के लिए करीब एक दर्जन पुलिस कर्मियों, होमगार्ड, पीआरडी जवान और ट्रैफिक पुलिस के सिपाही जुटे रहे, लेकिन उनकी तमाम कौशिशों के बावजूद भी यहां पर घंटों तक जाम का सामना लोगों को करना पड़ा। रुड़की रोड पर नाला निर्माण के बाद चल रहे सड़क बनाने के कार्य से भी यातायात व्यवस्था बदहाल हो रही है।


सड़क पर ही निर्माण सामग्री पड़ी होने के कारण नावल्टी चौराहे से लेकर अस्पताल चौराहे तक सड़क की इस साइड का यातायात ठप ही बना हुआ है। दूसरी ओर रविवार को हुई झमाझम बारिश के साइड इफेक्ट सोमवार को भी लोगों को परेशान करते हुए नजर आये। आज भी शहर की मलिन बस्तियों और निचले इलाकों में जलभराव के कारण लोगों को अपने घरों से आने जाने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ा। इस बारिश के कारण मौसम में सोमवार को नरमाहट बनी रही और दिन भर बादल छाये रहने के कारण लोगों को उमस और गर्मी से कुछ राहत मिली, लेकिन जाम के झाम से लोगों की जमकर परीक्षा ली।

Next Story