Top
undefined

इन खट्टे फलों में छुपे हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने के गजब के फायदे

इन खट्टे फलों में छुपे हैं रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने के गजब के फायदे
X

आपने बचपन में सुना होगा कि कड़वी चीजें बहुत फायदेमंद होती हैं। जैसे, नीम और करेले नेचुरल डिटॉक्सर माने जाते हैं। इसी तरह खट्टी चीजें भी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। ऐसे में आपको खट्टे फलों के फायदे जानकर इन्हें अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए- खट्टे फल उन्हें कहा जाता है, जिनके अंदर अम्लीय तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इनमें संतरे, ग्रेपफ्रूट, मौसमी, नीबू, नारंगी, संतरे आदि शामिल हैं। आमतौर पर इन फलों को विटामिन सी का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है, लेकिन इन फलों में कुछ आवश्यक पोषक तत्व जैसे शर्करा, फाइबर, पोटैशियम, फोलेट, कैल्शियम, थायामिन, नियासिन, विटामिन बी6 और विभिन्न प्रकार के फाइटो-ेकेमिकल्स मौजूूद होते हैं।

नींबूः यह जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और प्रतिरक्षा बूस्टिंग गुणों से भरा होता है। नीबू का इस्तेमाल वजन घटाने के लिए काफी उपयोगी माना जाता है। नींबू में साइट्रिक एसिड, विटामिन सी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, बायोप्लोनाइड, पेक्टिन और लिमोनेन होते हैं, जो इम्युनिटी मजबूती देते हैं।

अंगूरः इसे थोड़े कड़वे और खट्टे स्वाद के लिए जाना जाता है। यह कैंसर की रोकथाम में भी मदद करता है, प्रतिरक्षा के स्तर को बढ़ाता है और पाचन में सहायता करता है।

संतराः विटामिन सी, पोटैशियम और बीटा कैरोटीन से भरपूर संतरा कई स्वास्थ्य लाभों का एक आदर्श स्रोत है। इसके इस्तेमाल से हृदय की सेहत ठीक रहती है और गुर्दे की बीमारी दूर रहती है।

रखें ये सावधानियांः खट्टे फल में साइट्रिक एसिड पाया जाता है। हालांकि, यह आम तौर पर सुरक्षित होता है, लेकिन एसिड का अधिक इस्तेमाल करने पर पेट में ऐंठन, दस्त, मितली और उल्टी जैसे कुछ दुष्प्रभाव का सामना भी करना पड़ सकता है। संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को साइट्रिक एसिड युक्त क्रीम का उपयोग करने से बचना चाहिए।

Next Story