Top
undefined

आफिस के अधिक स्ट्रेस से हो सकता है बर्नआउट सिंड्रोम, लक्षण व उपाय

आफिस के अधिक स्ट्रेस से हो सकता है बर्नआउट सिंड्रोम, लक्षण व उपाय
X

डब्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक बर्नआउट एक सिंड्रोम है, जो काम के अधिक प्रेशर के कारण पैदा होता है। इसमें व्यक्ति शारीरिक रूप के साथ-साथ भावनात्मक रूप से भी थक जाता है। जिससे व्यक्ति की काम करने की क्षमता भी घट जाती है।

लाकडाउन के बाद जब से वर्क फ्राम होम का चलन शुरू हुआ है, तब से लोगों पर काम का प्रेशर व तनाव, दोनों ही बढ़ गया है। जिस के पश्चात लोगों को शारीरिक व मानसिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। काम का प्रेशर व दस से बारह घंटे के काम के तनाव में हम इतना डूब गए हैं कि सेहत व खान-पान का ख्याल ही भूल गए हैं। जिसका नतीजा है कि हम हर वक्त थके रहते हैं या तो बात-बात पर चिढ़ महसूस करते हैं। आगे चलकर यह खतरनाक हो सकता है और आपको गंभीर रूप से बीमार भी कर सकता है। तकनीकी रूप से इसे बर्न आउट नाम दिया गया है। जो कि काम के दबाव के कारण होने वाली थकान से होता है। बर्नआउट से क्रोनिक स्ट्रेस भी हो सकता है। हेल्थ एक्सपर्टस की मानें तो बर्न आउट आपकी सेहत के लिए बुरा साबित हो सकता है। ऐसे में वर्कप्लेस बर्नआउट को मैनेज करने में मैनेजर और इंप्लाई दोनों को बराबर ध्यान देना होगा। ताकि इंप्लाईज बेहतर काम कर सकते हैं और साथ ही शारीरिक व मानसिक तौर पर स्वस्थ रह सकें।

क्या होता है बर्नआउट सिंड्रोम ?

डब्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक बर्नआउट एक सिंड्रोम है, जो काम के अधिक प्रेशर के कारण पैदा होता है। इसमें व्यक्ति शारीरिक रूप के साथ-साथ भावनात्मक रूप से भी थक जाता है। जिससे व्यक्ति की काम करने की क्षमता भी घट जाती है। इसके अलावा, आपके काम करने की क्षमता पर असर तो पड़ता ही है, साथ ही आपकी सेहत भी इससे बुरी तरह प्रभावित होती है।

बर्न आउट के क्या हैं लक्षण ?

- काम पर जाने का मन नहीं करना

- अक्सर नींद लेने के बाद भी थकान रहना

- आफिस पहुंचते ही तनाव बढ़ना

- गहरी उदासी और डिप्रेशन

- काम में फोकस ना कर पाना

- गहरी असंतुष्टि की भावना रहना

- बात-बात पर चिढ़ना

कैसे करें बर्न आउट से बचाव ?

हेल्थ एक्सपर्ट की राय में बर्न आउट से आसानी से निपटा जा सकता है। इसके लिए बस आपको कुछ उपाय करने होंगे-

- यदि यह सब लक्षण आपको दिखाई दें तो परिवार के सदस्यों से बात करें। आप चाहें तो दोस्तों से भी बात कर सकते हैं।

- अपने आफिस के कलीग्स व से भी इस बारे में बात कर सकते हैं। उनके सपोर्ट और सुझाव से यह दूर हो सकता है।

- हमेशा अच्छा व पाजिटिव सोचें। अपने वर्कस्टेशन के आस-पास कुछ अच्छे मोटिवेशनल कोट्स लगाएं।

- शारीरिक और मानसिक तनाव दूर करने के लिए योगा या एक्सरसाइज भी कर सकते हैं।

- अपनी रुचि से जुड़ें कार्य करें। आफिस से बाहर, दोस्तों व परिवार वालों के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं।

- बर्न आउट से निपटने के लिए नींद का पूरा होना जरूरी है, इसलिए भरपूर नींद लें।

यह सभी बातें, बर्न आउट से छुटकारा पाने के लिए की जा सकती हैं। बेशक यह एक सिंड्रोम है, लेकिन ये बातें बताती हैं कि इस भागमभाग वाले समय में यह तनाव कई बीमारियों को बुलावा दे सकता है। इसका असर न सिर्फ आप पर बल्कि आपके परिवार पर भी पड़ता है।

Next Story